sahitya Sangeet

(Literature Is The Almighty & Music Is Meditation)

gallery/images (158)
gallery/images (81)

Other Links

 

Ghalib

Spirituality

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

व्यवस्था (System)

 




सन्नाटे की चीख सुनने को---

मोमबत्ती की तरह गल रहा,--

मेरा अस्तित्व;

तुम कहते हो कुछ कहो !


कहूँ भी अगर--

तुम समझोगे!!!!!

संदेह है! इसीलिए,

लौ के साथ घटता ---

मेरा अस्तित्व;;;

पौ के साथ बंटता----

मेरा व्यक्तित्व;;;

उसका एक भाग!!!!

तुमको अपना लगता है,,,

क्यूंकि,तुमने,

जख्मों को देखने में ----

अपना समय लगाना-----

व्यर्थ !!

समझ लिया है !!!

( SOMETIME,GO TO A PERSON SITTING ALONE ON THE BANK OF A RIVER,AND TALK WITH HIM,YOU WILL KNOW THE DEFINITION OF LONELINESS.)
-------


रबीन्द्रनाथ बनर्जी ( रंजन )

 

 

 

gallery/download (1)