Sahitya Sangeet

Literature Is The Almighty & Music Is Meditation

OTHER LINKS
Mirza Ghalib

विड़म्बना (Dilemma)



आओ ट्रैन और बसों को जला दें ,
सुन लो ;
बहुत बड़ी शक्ति है पांच परमेश्वर में।
क्योकि ---
और कोई राह नहीं ,
आक्रोश जो प्रकट करें।
हम अपनी ही पहचान मिटा दें ,
देखो------
सत्ता के नशे में हैं अगुआ हमारे।
कोई कुछ कहता नहीं क्यों हमसे ?
आओ उनकी नपुंसकता को ---
शिखंडी बना दें।।

भावनाओं को विश्लेषित ,
न कर पाने की अनुभूति ;
मरुस्थल में ,
भटका हुआ प्यासा पथिक ,
जलाशय को मरीचिका ---
मiन लें , से--
भी कष्टदायक है।

अपनी ही निर्मित ,
भावनाओं  के जाल में उलझ ;
भावनाओं  के निर्माण के ---
उद्देश्य को ,
भूल जाना ----
बुद्धि की विड़म्बना है।।।।।

 

(EVEN IN TODAY'S SCENARIO IT IS NOT CLEAR, WHO IS GOING TO PROPERLY GUIDE THE YOUNG GENERATION. I HOPE IT IS NOT TOO LATE)

 

 

By Rabindra Nath Banerjee(Ranjan)

 

----------