Sahitya Sangeet

Literature Is The Almighty & Music Is Meditation

OTHER LINKS
Mirza Ghalib

साफ़ बात (Goddamn Right.)

 

 



थे कहाँ ?
जेल में ,
गुनाह ?
पेट के लिए,


स्वास्थ कैसा है?
टूट चूका है,
सIहस है?
भूत का डर है,
कैसा भूत?
लाल पगड़ी वाले,


चोर हो क्या?
ज़बान सम्हालें,
क्या चल रहा है?
एकदम बेकार,
गुज़ारा ?
उधार,
मिलता है कहाँ से?
कहाँ मिल रहा,


अगर दूँ तो!
चूका दूंगा वादा रहा,
चुकाओगे कभी?
काम मिलने पर,
नहीं मिला तो?
फिर जेल में,
(जहाँ से बाहर धकेल दिया गया था)

-------

 

(This situation is very much relevant in this pandemic state. The government, think tanks, philosophers and business tycoons, must craft a soluton very quick to come out from this dark pit. More late means more devastations. May The Almighty bestows all his blessings upon mankind.)

 

By Rabindra Nath Banerjee(Ranjan)