Sahitya Sangeet

Literature Is The Almighty & Music Is Meditation

OTHER LINKS
Mirza Ghalib

बहती गंगा(Make Hay While The Sun Shines)

 

 

 


आइए साहबान, कदरदान, मेहरबान ,
हो रही है नीलाम,
केरल, बंगाल, हैदराबाद की,
कमसिन भेड़ें,
तबियत खुश होगी जब चढ़ेगी बोली परवान।

 


ये आपके ऊपर है,
क्या करेंगे आप,
बेचेंगे रोयें,
या खाएंगे मांस !
कुछ भी करेंगे आप,
नफे में है ज़नाब।

 


चरवाहे सब सनक गए हैं,
सब के सब नशे में चूर हैं,
सो भेड़ों के कदम भी बहक गए है।
पर आप तो व्यापारी हैं,
धो लीजिये आप भी ,
गर्म मांस की गंगा में हाथ।
-------

 

(HUMAN TRFFICKING. THE BURNING AND HURTING SUBJECT OF THE WHOLE WORLD. IF YOU TRY TO FIND OUT WHO IS RESPONSIBLE FOR THIS, YOU WILL BE SHOCKED. AND BY CHANCE OR LUCK YOU BECAME AWARE, AND THEY COME TO KNOW, YOU WILL BE ELIMINATED.)

 

 

Rabindra Nath Banerjee(Ranjan)