Sahitya Sangeet

Literature Is The Almighty & Music Is Meditation

OTHER LINKS
Mirza Ghalib

अफ़सोस(Ah, Alas!)

 



एक सुनहरी संभावना थी ,
इस शहर में दंगे की ,
और हमने गंवा दिया !



कलुआ के बेटे ने,
पंडित की पुत्री से,
कोर्ट मैरिज कर लिया !



सवर्णों का मीटिंग होना था,
हरिजनों की बस्ती जलनी थी,
बीस तीस बलात्कार होना था



लाठी चार्ज होना था,
गोलाबारी होना था,



मगर अफ़सोस----



हमने, सब कुछ,
चुप चाप,
हज़म कर लिया,

------

(SOMETIMES, AFTER READING THE DAILY NEWS PAPERS, SOME NEWS DISTURB US. AND THE THOUGHT COMPELLS TO THINK THAT, STILL WE ARE LIVING IN STONE AGE.)

 

By Rabindra Nath Banerjee(Ranjan)