sahitya Sangeet

(Literature Is The Almighty & Music Is Meditation)

gallery/images (158)
gallery/images (81)

Other Links

 

Ghalib

Spirituality

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Couplets-11




(101)
जब सब कुछ ख़ाक हो गया उस खौफनाक आग में ,
अनासिर ने बचे हुए से 'रंजन' का दिल बना दिया !
(102)
कोई हबीब,कोई रकीब कोई आश्ना नहीं रखते,
'रंजन' सफर में है जब उतर गया तो बिखर गया !
(103)
अब उसकी शक्ल भी भूलने लगा है 'रंजन' ,
कोई उसे भूलकर भी अखबार न थमा देना !
(104)
जिस बहार पे ऐतबार था एक ज़माने से 'रंजन' ,
आज उसीने हर गुल को अफ़्गार बना छोड़ा !
(105)
इस खोखले जिस्म में ये अफ्जाइश कहाँ से ,
किस रहनुमा ने फिर से उछाला है 'रंजन' को !
(106)
आफताब ने अफ्शां बिखेरा औ माहताब ने अफ्सूं उनपर,
रोशनी का सहारा था 'रंजन' को अब वो भी नहीं !
(107)
या खुदा मुझे मौत दे ठीक है पर सज़ा न दे ,
किसको भेजा मुझे मेरी ही दास्ताँ सुनाने !
(108)
क्या क़यामत,किस अदा से वो मेरे गली से गुज़र गए,
मुस्कराते रहे सारे रकीब देर तक मेरे तकदीर पर !
(109)
सहर हुआ और फिर से बेदार हुआ अफ्सूं तेरा ,
शब् हुआ और फिर से 'रंजन' ने देखा चेहरा तेरा !
(110)
अपनी नादानियों को अबस आप नाज़ न कहो ,
मेरी नादानियों को देखेंगे तो हाय-तौबा होगी !

CLICK FOR NEXT PAGE

 

 


 

gallery/index