sahitya Sangeet

(Literature Is The Almighty & Music Is Meditation)

gallery/images (158)
gallery/images (81)

Other Links

 

Ghalib

Spirituality

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Other Links

 

Ghalib

Spirituality

Ghazal No.6


1.
इकराम हुआ है इस जाँ पर यारा का यारों इस तरहा,
ज़ाहिद दे शब्-ए-खिलवत में कभी बाना-ए-फकीरी जिस तरहा !
2.
कातिल को भी दिल से लगाया है रखते हैं हम भी ऐसा जिगर,
रखता है छुपाकर दशना को म्यान जिगर में जिस तरहा !
3.
बातिल है दिल का हर नाला उन चश्म-ए-गफलत नज़रों में,
गाफिल है इब्लीस जैसे क़ि नौहा-ए-गम से जिस तरहा !
4.
किस तरह से जौक हो ख़तम मेरा कातिल इसी फितरत में है,
बर्क-ए-बेअमाँ खुश होता है खिरमन को जलाकर जिस तरहा
5.
जायेंगे न जानिब ख्यालों के खाते हैं क़सम इक अरसे से,
करता है तौबा "रंजन" ज्यूँ मैखाने से आकर जिस तरहा !
_____


Translation


1.
Esteem extended to the spirit,from beloved my friends alike,
zealot preaches weft of sage in the night of away just alike.
2.
Hugged the killer with ticker,I possess such an open heart,
Scabbard keep from sabre in its own heart just alike.
3.
Every moan is void is the view of that half conscious eyes,
Forever Satan is indolent from the keen.Just alike.
4.
How my paramount pleasure can be diminished that murderer is planning,
While the harvest is turned ash and the lightening becomes glad just alike.
5.
Will not visit the region of whims,taken the oath since period,
As drunkard does penitence came from tavern just alike.
______

 

By Rabindranath Banerjee(Ranjan)

 

 

 

gallery/images